अभी सभी ग्रुप जॉइन करें
खबरें के लिए ग्रुप में जोड़ें Join Now
खबरें Telegram पर पाने के लिए जुड़े Join Now

ट्रेन में सफर करते समय लोग अक्सर सोचते हैं कि आम यात्री बोगी के वॉशरूम में फ्रेश होते हैं, लेकिन ट्रेन के ड्राइवर, यानी लोको पायलट, फ्रेश होने कहा जाता है। कि इंजन में वॉशरूम नहीं है इसलिए, आप इस लेख को पढ़कर इस प्रश्न का उत्तर पाएंगे।

रांची रेल मंडल के सीनियर डीसीएम निशांत कुमार ने लोकेल 18 को बताया कि हर ट्रेन स्टेशन से शुरू होने पर लोको पायलट स्टेशन में अच्छी तरह से फ्रेश हो जाते हैं।ताकि उन्हें दो या तीन घंटे तक वॉशरूम जाना न पड़े।ऐसा करना खासकर लोको पायलट को कहा जाता है। ताकि ट्रेन चलाने के दौरान

बीच में वॉशरूम लग जाए तो क्या करेंगे?

डीसीएम निशांत कुमार ने कहा कि लोको पायलट स्टेशन पर अक्सर ऐसा होता है। लेकिन ट्रेन चलाते समय भी उन्हें वॉशरूम जाना पड़ता है। ऐसे में वह कंट्रोल रूम को फौरन बताते हैं। उन्हें कंट्रोल रूम से आने वाले स्टेशन पर ट्रेन रुकने की अनुमति मिलती है। वह स्टेशन पर जाकर खुश होते हैं।उनका कहना था कि हालांकि ऐसा बहुत कम होता है। अगर ऐसा भी होता है, तो आपने शायद एक या दो घंटे के भीतर एक या दो स्टेशन आते देखा होगा। यही कारण है कि लोको हर समय पायलट स्टेशन पर उतरकर फ्रेश रहते हैं।लेकिन कुछ ट्रेनें ऐसी हैं

लंबी ट्रेन में जाना थोड़ा मुश्किल है

डीसीएम निशांत कुमार ने बताया कि कुछ ट्रेन रात भर चलते हैं, जैसे राजधानी, दूरंतो या गरीब रथ। जिन ट्रेनों में लोग रहते हैं, वे पायलट कंट्रोल रूम को सूचना देकर ट्रेन को ट्रैक पर खड़े होकर कुछ सेकेंड के लिए फ्रेश करते हैं. हालांकि, कंट्रोल रूम से जानकारी मिलने तक वे ट्रेन को नहीं रोक सकते।ट्रेन को ग्रीन सिग्नल मिलने पर ही रोका जाता है

यह भी पढे :

Gerena Free Fire India Install : गेम लवर के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी 2024 के नए वर्जन को यहां से डाउनलोड करें।

बड़ी खुशखबरी, फिर हुआ छुट्टिमें बढ़ोतरी सरकार का ऐलान, देखे किस दिन तक स्कूल बंद: School Holiday 2024

School Holiday: स्कूल छुट्टी छात्र को बड़ी राहत, विंटर वेकेशन बढ़ाया जाएगा, स्कूल कॉलेज बंद रहेंगे..!

और पढ़े :-

    Leave a comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *